Thursday, 16 July 2020

~चिराग~



चंद उदास शामें है और चंद स्याह रातें
चारों ओर एक अजीब सी खामोशी पसरी है
न पंछियो का कोई शोर है ना
पार्क में खेल रहे बच्चों की कोई चहचाहट
बस चंद मानसून की बारिशें है
और कुछ तुम्हारी बे पनहं मुहोब्बत
पर, ढूंढने पर भी एक खुशी का मोती नही मिलता
इस ग़म के सागर में गोते लगते बार बार
जहां देखो बस एक विलाप है
जिसके हैं अनगिनत आधार
आखिर क्यों चले गए तुम
यह दुनिया छोड़कर मेरे यार
अब तुम्हारे बिना यह जिंदगी है
महज़ एक जलता हुआ चिराग....

8 comments:

  1. दोस्त चले जाते हैं, बस यादें रह जातीं हैं..!

    ReplyDelete
  2. किसी के अमिट याद को दर्शाती हैं
    https://yourszindgi.blogspot.com/2020/07/blog-post.html?m=0

    ReplyDelete
  3. लाजवाब !

    - रेखा श्रीव

    ReplyDelete
  4. आप सभी का आभार सहित धन्यवाद 🙏🏼

    ReplyDelete