Saturday, 21 January 2012

जीवन रूपी अग्नि ...


गीली मिट्टी के बर्तन सी ज़िंदगी
जैसे हो हमारा बचपन
जिसे कुम्हार अपने हाथों से 
सहेज कर बनाता है एक घड़ा और एक सुराही  
दोनों को ही डाल देता है आग मे
तपाकर पक्का करने के लिए 
बिना किसी भेद के क्यूंकि 
उसे अपने दोनों ही बर्तन प्यारे है
वह तो दोनों को ही 
आग में तपा कर पक्का करना चाहता है   
चाहे वो सुराही हो या घड़ा 
और ना ही आग ही भेद करती है दोनों को 
पक्का कर मजबूती प्रदान करने में 
तो फिर क्यूँ हम भेद करने 
लगते है जीवन रूपी आग में 
एक स्त्री को ज्यादा पक्का करने के लिए
क्या एक पुरुष को भी
उस ही जीवन अग्नि में तपकर 
उतना ही पक्का होना ज़रूरी नहीं 
जितना की एक स्त्री के लिए है
तो फिर क्यूँ भूल जाते हैं हम 
जब वही आग जरूरत से ज़्यादा हो जाये 
तो जला भी सकती है उन्हीं बर्तनो को
मगर एक स्त्री को जीवन रूपी आग में
एक बेटी के रूप में, तो कभी एक बहु के रूप में  
छोड़कर जैसे भूल ही जाते हैं हम
और छोड़ देते हैं उसे सदा के लिए 
उस आग में जलने को 
जिसमें वह चुप रहकर भी जलती है 
और यदि बोलना चाहे कुछ 
तो जला दी जाती
क्यूँ नारी जीवन बचपन से लेकर 
अतिम सांस तक एक अग्नि परीक्षा 
ही बना रहता है और जब तक 
एहसास हो हमें उस तपिश का 
तब तक शेष रह जाता है
केवल धुआँ और राख़
कभी भावनाओं के रूप मे,
तो कभी मिटे हुए अस्तित्व को याद करने के लिए ....      

22 comments:

  1. केवल धुआँ और राख़
    कभी भावनाओं के रूप मे,
    तो कभी मिटे हुए अस्तित्व को याद करने के लिए ....

    ReplyDelete
  2. nari jeevan ki trasdi ka sunder chitran kiya hai............

    ReplyDelete
  3. क्यूँ नारी जीवन बचपन से लेकर
    अतिम सांस तक एक अग्नि परीक्षा
    ही बना रहता है... आरम्भ से यह सौगात मिली उसे

    ReplyDelete
  4. sach kaha aapne. kashmokash ko sunder shabdo se sajaya hai. apni sthiti badalne k liye naari ko khud hi us aag se apne aap ko baahar nikaalna hoga....

    ReplyDelete
  5. बढ़िया प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 23-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  6. ये हमारे समाज का कडुवा रूप है ... नारी पे हर हुक्म चालान पुरुष समाज अपना हक समझता है ... भावों को शब्द दिए हैं आपने ...

    ReplyDelete
  7. आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेरे नए पोस्ट "धर्मवीर भारती" पर आपका सादर आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  8. मगर एक स्त्री को जीवन रूपी आग में
    एक बेटी के रूप में, तो कभी एक बहु के रूप में
    छोड़कर जैसे भूल ही जाते हैं हम
    और छोड़ देते हैं उसे सदा के लिए
    उस आग में जलने को
    bilkul mamshaprshi.....ak behatareen rachana.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर सार्थक सन्देश । धन्यवाद।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    हिंदी दुनिया

    ReplyDelete
  11. Bahut Sundar , samvedna bhari hakeekat par ummeed hai ki raakh ke dher me dabi huyi chingaariyaan phooteingee ek din - Aabhaar Yogesh Sharma

    ReplyDelete
  12. Bahut Sundar , samvedna bhari hakeekat par ummeed hai ki raakh ke dher me dabi huyi chingaariyaan phooteingee ek din - Aabhaar Yogesh Sharma

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर सन्देश देती रचना,बेहतरीन पोस्ट....
    new post...वाह रे मंहगाई...

    ReplyDelete
  14. समर्थक बन गया हूँ,आप भी बने,खुशी होगी,....

    ReplyDelete
  15. सहज प्रतीक की मार्फ़त सब कुछ कह दिया .समाज से संवाद करती सार्थक रचना .

    ReplyDelete
  16. मेरे इस ब्लॉग पर भी आकर आपने महत्वपूर्ण विचार प्रस्तुत करने के लिए आप सभी पाठकों एवं मित्रों का तहे दिल से शुक्रिया कृपया यूं हीं संपर्क बनाए रखें...आभार

    ReplyDelete
  17. आपकी कविताओं का रंग भी गाढ़ा है. बहुत खूब.

    ReplyDelete
  18. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 02-02 -20 12 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज...गम भुलाने के बहाने कुछ न कुछ पीते हैं सब .

    ReplyDelete
  19. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  20. बढ़िया लेख इसे भी देखे :- http://hindi4tech.blogspot.com

    ReplyDelete
  21. Bahut achhi kavita pallavi ji..

    ReplyDelete