Friday, 30 December 2011

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें....

वक्त का पहिया न रुका है कभी 
न रुकेगा कभी किसी के लिए 
हर साल एक नया साल आता है 
तो एक पुराना साल जाता है 
यह आना जाना 
बस यूं हीं चलता-चला जाता है
ज़िंदगी का भी तो कुछ यही 
सिलसिला है 
जो न रुकती है कभी, किसी के लिए 
हर साल एक नई ज़िंदगी जन्म लेती है 
तो एक पूरानी ज़िंदगी देह त्याग देती है 
और जीवन का यह सिलसिला भी
यूं चलता रहता है
एक कभी ख़त्म न होने वाला सिलसिला 
जैसे सागर कि बाहों में मौजों का सिलसिला 
ठीक इसी तरह 
आप सभी के जीवन में भी यह 
 सागर कि लहरों रूपी खुशियों का 
सिलसिला कभी न रुके, कभी न थमे 
बस इस ही मंगल कामना के साथ 
आप सभी को नव वर्ष कि हार्दिक शुभकामनायें  
  

15 comments:

  1. बहुत खूब, लाजबाब !
    .......नववर्ष आप के लिए मंगलमय हो

    शुभकामनओं के साथ
    संजय भास्कर

    ReplyDelete
  2. नव वर्ष कि हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. आप सभी के जीवन में भी यह
    सागर कि लहरों रूपी खुशियों का
    सिलसिला कभी न रुके, कभी न थमे
    बस इस ही मंगल कामना के साथ
    नववर्ष की अनंत शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति...नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  5. सुंदर रचना बेहतरीन अभिव्यक्ति ,.....
    नया साल "2012" सुखद एवं मंगलमय हो,....

    मेरी नई पोस्ट --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    ReplyDelete
  6. आपको और आपके परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  7. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ........

    ReplyDelete
  8. आपको भी..वेरी वेरी हैप्पी न्यू इअर..

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर प्रस्तुति,..
    नया साल आपके जीवन को प्रेम एवं विश्वास से महकाता रहे,

    मेरी नई पोस्ट --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    ReplyDelete
  10. आपको भी नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रस्तुति
    नववर्ष मंगलमय हो

    ReplyDelete
  12. सर्वप्रथम तो मेरी पोस्ट पर आने के लिए धन्यवाद...
    आपके ब्लॉग पढ़े ,अच्छा लगा
    अच्छा लिखतीं हैं आप .
    नववर्ष की शुभकामनाएं तो आम बात हो गयी,
    सच्ची शुभकामनाएं तो लेखन के लिए मिलनी चाहिए.

    ReplyDelete
  13. जीवन के आने-जाने के सिलसिले पर अच्‍छी कविता।

    ReplyDelete