Wednesday, 7 December 2011

तलाश ...


ज़िंदगी की राह में
क्या सभी को
कोई ऐसा हमसफर मिल पाता है 
जो जज़्ब करले, अपने अंदर,
 हमारे सभी एहसासों को
जैसे सुखी मिट्टी अपने अंदर समा लेती है,
 पानी की बूंदों को
और दे जाती हैं,
 एक मनमोहक सी महक,
 मन को लुभाने के लिए 
जैसे रेत अपने अंदर जज़्ब कर लेती है 
 समंदर की अलहड़ लहरों का पानी, 
ख़ुद गीली हो कर भी शांत भाव से ओरों को देती है 
उनके सपनों का आशियाँ बनाने एक मौका ,एक ख़्वाब
जो उनको ना सिर्फ,
 खुलकर जीने की प्रेरणा देता है 
बल्कि कुछ देर के लिए इस हकीकत की 
बेरहम दुनिया से दूर बहुत दूर ले जाता है
एक काल्पनिक स्वप्न लोक में 
जहां केवल अपनी मन मर्ज़ी से जीने की 
आजादी होती है 
 जहाँ न कोई रस्म-ओ-रिवाज का कोई 
बंधन होता है 
और न ही बेरहम समाज के खोखले उसूल 
जो मजबूर कर देते हैं, एक इंसान 
को 
बेमानी सी बिना किसी वजूद की 
तालश में भटकती ज़िंदगी जीने के लिए ,
क्या कोई है ऐसा 
आपकी ज़िंदगी में
 जो ख़ुद में आपके मन के कोलाहल
 और सभी अवसादों को समेटे
 होने के बावजूद भी
 शांत मन से, दे सके, 
आपको , 
 आपके जीवन का वो मार्ग, 
जहाँ आडंबरों की कोई जगह नहीं.... 

14 comments:

  1. क्या कोई है ऐसा
    आपकी ज़िंदगी में
    जो ख़ुद में आपके मन के कोलाहल
    और सभी अवसादों को समेटे
    होने के बावजूद भी
    शांत मन से, दे सके,
    आपको को,
    आपके जीवन का वो मार्ग,
    ,जहाँ आडंबरों की कोई जहग नहीं....

    कहीं न कहीं तो होगा ही ....आप ढूंढिए तो ....अपने आस पास।

    सिंपली सुपर्ब !

    सादर

    ReplyDelete
  2. bhut sunder ehsaaso se bhari sunder rachna....badhai:)

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद यशवंत जी एवं सत्यम जी :-)

    ReplyDelete
  4. rupahali jindagi ke khusboo ko dikhati ek khubsurat rachna...:) ek hamsafar ki talaash|||!!

    ReplyDelete
  5. अद्भुत रचना पल्‍लवी जी।

    ReplyDelete
  6. दर असल सुकून तो हमारी खुद से मुलाकात होने पर ही संभव होता है
    शादी करनी चाहिए या नहीं?

    ReplyDelete
  7. मिलता तो है ... अब किसको क्या मिला ये मुकद्दर की बात है ...

    ReplyDelete
  8. आपकी रचना बहुत सुन्दर है ... और आप अंग्रेजी साहित्य में एम ए होकर हिंदी में लिखती हैं आपको बताना चाहूँगा मै खुद भी
    एम.ए. हूँ और हिंदी में ही लिखता हूँ.निवेदन है आप मेरे ब्लॉग पर आये . http://Dastan-e-sahil.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर पन्तियों में लिपटी प्यारी रचना,!!!!!!!बहुत खूब ...
    मेरे नये पोस्ट पर आइये,........

    ReplyDelete
  10. शांत मन से, दे सके,
    आपको को,
    आपके जीवन का वो मार्ग,
    ,जहाँ आडंबरों की कोई जगह नहीं....

    मन में गहरे उतरता है प्रश्न ..... बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  11. ऐसे विन्यास दुरूह होते हैं....शायद ।

    ReplyDelete
  12. हाँ क्यों नहीं? खोजिये जिन्दगी में ऐसा जरूर कोई न कोई मिल ही जाएगा . जहाँ जाकर सब कुछ कहा जा सकता है और वह अपने में आत्मसात करके दूसरे को रिक्त कर देता है.

    ReplyDelete
  13. कुछ अनोखी सी एक बात हो गयी|
    मेरी आज खुद से मुलाक़ात हो गयी|

    ज़रा नजर उठा कर देखिए, वह कहीं आपके आस-पास ही तो नहीं|
    बहुत सुंदर, सहज अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  14. us mitti ..us ret jisa koi insaan mil jaaye to kya kahne..jindagi ko aaur kya chahiye..behtarin rachna..yahan bhi aapne har baat anubhav se hee kahi hai..is shandaar kriti ke liye hardik badhayee....ek nivedan hai yah word verification hata dein please

    ReplyDelete