Saturday, 11 January 2020

सच और झूठ का महत्व



सच सच ही होता है और झूठ झूठ ही होता है फिर कहा जाता है किसी की भलाई के लिए बोला गया झूठ सच से बढ़कर होता है। लेकिन विडंबना देखिये कि फिर भी ''सत्यम शिवम सुंदरम'' ही कहा जाता है। हम मस्ती मज़ाक में भी सहजता से झूठ बोल जाते है और गंभीर विषय में भी, शायद इसलिए कि झूठ बोलने में हमें ज्यादा दिमाग नहीं लगाना पड़ता या फिर यूं कहें कि उसके परिणाम के बारे में ज्यादा सोचना नहीं पड़ता। इसलिए कभी भी कहीं भी झूठ बोलना सच बोलने से ज्यादा आसान होता है/हो जाता है। लेकिन सच बोलना हर वक्त संभव नहीं होता। अर्थात सच बोलते वक्त दिमाग सौ बार सोचता है तब कहीं जाकर सच बोलने की हिम्मत आती है। फिर भी जुबान लड़खड़ा ही जाती है। तभी शायद सत्य की उपमा देने के लिए सदैव एकमात्र व्यक्ति सत्यवादी हरीश चंद्र का नाम ही लिया जाता है। नहीं ?

किन्तु यदि मैं अपनी बात करूँ तो मैं तो साफ दिल से कहती हूँ कि मैं हमेशा सच नहीं बोलती। हाँ मगर इसका अर्थ यह नहीं कि मैं सदैव झूठ ही बोलती हूँ। जरूरत के अनुसार जहां बेवजह झूठ बोलने की जरूरत नहीं होती वहाँ सहजता से सच निकलता है और मन भी यही कहता है कि जबरन क्यूँ झूठ बोलना। ऐसा सिर्फ मेरे साथ नहीं होता सभी के साथ होता है। मगर स्वीकारता कोई-कोई ही है। इसलिए कोशिश सदैव सच बोलने कि ही रहती है। किन्तु ज़रूरत पड़ने पर झूठ बोलने से भी नहीं हिचकिचाते हम, इसे आप मानव प्रवृति (human nature) का नाम भी दे सकते है।

कहते है झूठ बोलने से कभी किसी का भला नहीं होता। क्यूंकि झूठ की उम्र ज्यादा लंबी नहीं होती। सच है!लेकिन वर्तमान हालातों को मद्दे नज़र रखते हुए तो मैंने झूठ बोलने के कारण अधिकतर लोगों का भला होते ही देखा। और झूठ की उम्र सच से ज्यादा लंबी देखी। सच ज़्यादातर तकलीफ देता है। कभी कभी यह तकलीफ़ क्षणिक होकर गर्व, क्षमा, और सम्मान में बदल जाती है। किन्तु अधिकतर सच सामने वाले व्यक्ति को दुख ही पहुंचता है और सम्बन्धों में दरार डाल जाता है। नतीजा प्रेम के धागे में गाँठ पड़ ही जाती है। लेकिन इस सब के बावजूद भी यह कहना गलत नहीं होगा कि सच और झूठ इंसान के जुआ रूपी जीवन से जुड़े वो दो पाँसे हैं जिन्हें इंसान समय और परिस्थितियों को देखते हुए चलता है। इसलिए कभी धर्म के नाम पर धर्म युद्ध में भी छल का सहारा लेकर सत्य को बचाया गया। जैसे महाभारत में पांडवों के साथ यदि श्रीकृष्ण न होते तो उनका यह धर्म युद्ध जीतना असंभव था। लेकिन इस धर्म युद्ध में विश्व कल्याण एवं मानव कल्याण हेतु धर्म को बचाने के लिए श्रीकृष्ण ने ही छल की शुरुआत की तो इस तरह छल का दूसरा नाम ही झूठ हुआ इसी तरह रामायण में भी बाली का वध हो या रावण का स्वयं भगवान को भी छल का सहारा लेना ही पड़ा। कुल मिलकर सच को बचाने के लिए ही सही मगर छल तो ईश्वर को भी करना ही पड़ा ना !!! तो हम तो फिर भी इंसान है। 

यह सब लिखकर मैं यह साबित नहीं करना चाहती कि मैं झूठ बोलने की पक्षधर हूँ। यह तो केवल इस झूठ सच के विषय पर मेरी एक सोच है। क्यूंकि यूं भी झूठ बोलने की आदत कोई अपनी माँ के पेट से सीखकर नहीं आता बल्कि हम स्वयं ही जाने अंजाने अपने बच्चों को छोटी-छोटी बातों के लिए झूठ बोलने का पाठ पढ़ा जाते हैं और हमें स्वयं ही आभास नहीं होता। इसलिए मैं यह नहीं कहती की झूठ सच से अच्छा होता है लेकिन यह ज़रूर कहूँगी की झूठ से यदि सब कुछ बिखर जाता है तो उसी झूठ से कई बार सभी कुछ संभल भी जाता है। क्यूंकि हर एक इंसान के जीवन में कुछ सच ऐसे भी होते हैं जिन पर यदि झूठ का पर्दा पड़ा रहे तो ज़िंदगी सुकून से कट जाती है। अधिकतर मामलों में झूठ ज़िंदगी बचा लेता है कभी बोलने वाले की स्वयं अपनी जिंदगी तो कभी उस सामने वाले इंसान की जिंदगी जिस से झूठ बोला जारहा है/गया हो। 

अन्तः बस इतना ही कहना चाहूंगी कि इंसान की ज़िंदगी में दोनों (झूठ और सच) का ही अपना एक विशेष स्थान है, एक विशेष महत्व है, जिसके चलते दोनों में से किसी एक को नकारा नहीं जा सकता।        

6 comments:


  1. Thank you for sharing this information this information is very helpful for me and i bookmarked your site because i found your content important for me..

    ignou mapc project

    ReplyDelete
  2. This was a fantastic blog. A lot of very good information given, I had no idea what a blog was or how to start one.Ignou MBA Report I will definitely use this information in the very near future. I have saved this link and will return in a Ignou MAPC synopsiscouple of months, when I need to build my first blog. Thank you for the information.

    ReplyDelete
  3. Excellent Blog! I would like to thank for the efforts you have made in writing this post. I am hoping the same best work from you in the future as well.
    I wanted to thank you for this websites! Thanks for sharing. Great websites!
    https://www.eljnoub.com/
    http://www.elso9.com/

    ReplyDelete
  4. I like it. Great article Lot's of information to Read...Great Man Keep Posting and update to People. Thank you so much.
    satta result
    gali satta
    disawar result
    satta matka
    satta king
    satta
    satta chart

    ReplyDelete
  5. बात हालात की होती है ,जहाँ कर्म की बात होती है वो सही होने चाहिए, झूठ सही नियत एवं हित की दृष्टि से गलत नहीं है ,बहुत ही बढ़िया नमस्कार

    ReplyDelete