Wednesday, 26 September 2012

यादों की इमारत

यूं तो आज तुमसे मिले बिछड़े कई साल होने को आए 
मगर आज भी ऐसा लगता है 
जैसे आज की ही बात हो 
यूं होने को तो बात तुमसे आज भी होती है, रोज़ 
जब कभी भी मैं तन्हा होती हूँ 
उस वक्त तुमसे बात क्या 
मैं तो तुम्हें देख भी सकती हूँ और छू भी सकती हूँ 
क्यूंकि तुम कोई मेरा गुज़रा हुआ कल नहीं हो  
बल्कि मेरे अंदर का एहसास हो
जिसे सिर्फ मैं ही महसूस कर सकती हूँ
क्यूंकि एहसास कभी मरा नहीं करते  
लेकिन फिर भी नजाने क्यूँ
तुम्हारे इतने करीब होते हुए भी 
मेरे मन के अंदर तुमसे कहने वाली बहुत सी बातें है 
जो परत-दर-परत मेरी दिल की दीवारों पर हर रोज़ 
किसी रंग की भांति चढ़ती जाती हैं 
शायद यह सोचकर की कभी तो मिलोगे तुम, 
तब सब कहूँगी तुमसे 
एक-एक बात बताऊँगी तुम्हें 
और तब तुम्हें दिखाऊँगी मैं अपने दिल के वो बात रूपी सारे रंग 
जो शायद मैं तुम से मिलने की आस में, 
अपने दिल पर बस चढ़ती गयी थी  
जो आज एक दीवार पर पड़ी किसी रंग की एक पपड़ी के रूप में 
तुम्हारे सामने गिरने को आतुर है 
मगर सुनो डर भी बहुत लगता है मुझे, कहीं ऐसा न हो 
की तुम लौटकर वापस ही ना आओ, या हम अब कभी मिल ही ना पायें 
तो फिर क्या होगा, तब कहीं ऐसा न हो की  
यह दीवार पर पड़ी कई परतों से बनी एक पपड़ी दीवार समेत ही गिर जाये
और शेष रह जाये महज़ वो खाली खंडहर 
जो कभी तुम्हारी यादों से सजी एक खूबसूरत इमारत हुआ करती था ....  
   
  

8 comments:

  1. तो फिर क्या होगा, तब कहीं ऐसा न हो की
    यह दीवार पर पड़ी कई परतों से बनी एक पपड़ी दीवार समेत ही गिर जाये
    और शेष रह जाये महज़ वो खाली खंडहर
    जो कभी तुम्हारी यादों से सजी एक खूबसूरत इमारत हुआ करती था ....

    ये डर क्यों ? सदा खुले रखें मन के द्वार और कभी न हो संवादहीनता .

    ReplyDelete
  2. सुंदर अभिव्यक्ति. उपरोक्त ब्लॉग का नाम भी दूसरे ब्लॉग की तरह से हिन्दी और अंग्रेजी में करें.

    ReplyDelete
  3. एक-एक बात बताऊँगी तुम्हें
    और तब तुम्हें दिखाऊँगी मैं अपने दिल के वो बात रूपी सारे रंग
    जो शायद मैं तुम से मिलने की आस में,
    अपने दिल पर बस चढ़ती गयी थी
    behtreen bhavmayi prastuti ke liye badhai

    ReplyDelete
  4. तुम्हारे इतने करीब होते हुए भी
    मेरे मन के अंदर तुमसे कहने वाली बहुत सी बातें है
    जो परत-दर-परत मेरी दिल की दीवारों पर हर रोज़
    किसी रंग की भांति चढ़ती जाती हैं
    शायद यह सोचकर की कभी तो मिलोगे तुम,
    तब सब कहूँगी तुमसे
    एक-एक बात बताऊँगी तुम्हें
    और तब तुम्हें दिखाऊँगी मैं अपने दिल के वो बात रूपी सारे रंग
    जो शायद मैं तुम से मिलने की आस में,
    अपने दिल पर बस चढ़ती गयी थी so wonerful.......mujhe laga jaise aapne mere dil ki bat kah di ho ...... fursat se ek bar fir aaoongi aapki purani posts parhne .......

    ReplyDelete
  5. :) अच्छी कविता है.... :)

    ReplyDelete
  6. प्रेम के मजबूत नीव पर टिकी इमारतें गिरा नहीं करतीं - वो दुनिया के लिए मिसाल बन जातीं हैं - ताजमहल की तरह ।
    शानदार कविता ।

    ReplyDelete